Home » सत्ता के गलियारों से

उत्तर प्रदेश के रण में मोदी का बोलबाला भगवा सुनामी

Share 0 Link
उत्तर प्रदेश के रण में मोदी का बोलबाला भगवा सुनामी
चुनाव उपरांत विश्लेषण के मुताबिक बीजेपी उत्तर प्रदेश में विस्मयकारी ढंग से 251-279 सीट पर जीत हासिल करने जा रही है. अनुमान के मुताबिक समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन को महज 88-112 सीट पर जीत हासिल होगी. जहां तक बीएसपी का सवाल है तो उसके लिए अनुमान बहुत निराशाजनक हैं. बीएसपी को सिर्फ 28-42 सीट पर ही जीत मिती दिख रही है.

बीजेपी के लिए उत्तराखंड से 70 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी को 46 से 53 सीटों के साथ स्पष्ट बहुमत मिलने का अनुमान है. बीजेपी गोवा में भी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर कर आती दिख रही है लेकिन बहुमत से दूर रह सकती है. अनुमान के मुताबिक 40 सदस्यीय गोवा विधानसभा में बीजेपी को 18-22 सीट पर जीत मिल सकती है.

चुनाव उपरांत निष्कर्षों का गहराई से अध्ययन किया जाए तो पता चलता है कि बीजेपी यूपी में कगार पर पहुंचने के बाद जीत को छीनती दिखाई दे रही है. यूपी में पहले चरण के मतदान से पहले एक्सिस ने जो आखिरी ओपिनियन पोल किया था उसके मुताबिक बीजेपी के प्रदर्शन का ग्राफ गिरता और एसपी-कांग्रेस गठबंधन का उठता दिखाई दे रहा था.

पोल आंकड़ों के मुताबिक यूपी में बीजेपी की संभावित शानदार जीत के सबसे बड़े कारणों में से एक गैर यादव ओबीसी वोटों को चट्टान की तरह बीजेपी के साथ जोड़ना रहा है. जो नजर आता है वो ये है कि गैर यादव ओबीसी मतदाताओं ने खुद को समाजवादी पार्टी के शासन में उपेक्षित महसूस किया. ऐसे में इन मतदाताओं का एकजुट होकर बीजेपी के पाले में जाना बीजेपी के शानदार प्रदर्शन के कारणों में से एक हो सकता है.

अमित शाह का एक ये भी मास्टरस्ट्रोक रहा कि उन्होंने केशव प्रसाद मौर्य को यूपी में बीजेपी के प्रदेश प्रमुख के तौर पर प्रोजेक्ट किया. मौर्य की इस प्रोन्नति से पार्टी गैर यादव ओबीसी मतदाताओं को ये संदेश देने में सफल रही कि अगर बीजेपी यूपी में जीतती है तो उन्हें भी सत्ता में बड़े पैमाने पर भागीदारी मिलेगी. साथ ही बीजेपी इस छवि को तोड़ने में भी सफल रही कि वो सवर्णों या बनियों के प्रभुत्व वाली पार्टी है.
  •  Ruchir Sharma | Quint Hindi
    Ruchir Sharma | Quint Hindi
  • Shushmita DevAt the India Today Women's Summit
    Shushmita DevAt the India Today Women's Summit